2022-23 Budget क्रिप्टो पर लगा Tax

क्रिप्टो निवेशको को 2022-23 आम बजट का इंतजार काफी दिनों था इस बजट को सुनाते समय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने क्रिप्टो करेंसी शब्द का इस्तेमाल नहीं किया बल्कि उन्होंने वर्चुअल करेंसी और डिजिटल ऐसेट्स के बारे मे एलान करते हुए इस पर 30 % टैक्स इंपोर्ज किया गया। बहुत दिनों से ये क्यास लगाए जा रहे हैं की भारत में क्रिप्टो बैन हो सकती है लेकिन सरकार द्वारा यह टैक्स इंपोर्ज करने के बाद निवेशकों को यह बात क्लियर हो गई होगी कि सरकार इसके साथ आगे बढ़ना चाहती है ना कि बैन करना चाहती है इससे बैंक और रेगुलर सिस्टम को भी पारदर्शी मिलेगी।

Budget 2022

2022 Budget मे क्रिप्टो पर कितने तरह का टैक्स लगा है?

2022 की बजट मे फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण अपने भाषण में वर्चुअल करेंसी पर 30 परसेंट का टैक्स लगाने का ऐलान की है उन्होंने अपने एलान में कहा कि क्रिप्टो एक प्रकार की सम्पति है इसलिए हम इस पर टैक्स लगा रहे हैं वित्त मंत्री ने अपने भाषण में क्रिप्टो से होने वाले आय का 30 परसेंट का टैक्स लगेगा इसके साथ किसी भी वर्चुअल एसेट के ट्रांसफर पर 1% का TDS लगाकर सरकार हर ट्रांसफर पर नजर रखना चाहती हैं। इस डिजिटल ऐसैट्स मे क्रिप्टो करेंसी के साथ-साथ एनएफटी, डिजिटल मुद्रा भी शामिल है यदि आप ₹50000 से अधिक किसी को डिजिटल संपत्ति गिफ्ट करते हैं तो Income tax law 1961 के setion (56)(2)(10) के मुताबिक ही आपको टैक्स देनी होगी। (हालांकि इसमें आपके सगे संबंधी परिवार और किसी ट्रस्ट,  हॉस्पिटल द्वारा दी गई गिफ्ट रकम पर आपको टैक्स नहीं लगेगी)

डिजिटल करंसी क्या है? (What is Digital Currency)

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के द्वारा डिजिटल एसएस व परावेट क्रिप्टो पर भाषण देते हुए डिजिटल एसएक्स 32 परसेंट का टैक्स के साथ या ऐलान किया है कि आरबीआई 2022 में अपनी खुद की एक डिजिटल रुपया बनाएगी जो ब्लॉकचेन और नई टेक्नोलॉजी पर आधारित होगी इससे भारत में डिजिटल इकोनामी को बूस्ट मिलेगा। इससे सस्ता और इफेक्टिव करेंसी मैनेजमेंट सिस्टम बनेगी।  सरकार द्वारा की जाने वाली डिजिटल करेंसी का नाम “डिजिटल रुपया” होगा। फिलहाल सरकार ने क्रिप्टो और क्रिप्टो एसेट्स क्या है इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं जाहिर की है।

क्रिप्टो करेंसी के सबसे खास बात यह है कि क्रिप्टोकरंसी किसी भी एक व्यक्ति या किसी सेंट्रलाइज बॉडी के द्वारा रेगुलेट नहीं किया जा सकता है यही बात क्रिप्टो को इतनी लोकप्रिय बनाए हैं लेकिन डिजिटल करेंसी इससे अलग है इसे किसी बैंक/ सरकार के द्वारा रेगुलेट किया जा सकता है। डिजिटल करेंसी और क्रिप्टोकरंसी दोनों ही ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर आधारित है।

Leave a Comment